दिल भी अवारा था

दिल भी अवारा था

कागज की कश्ती थी पानी का किनारा था,

खेलने की मस्ती थी ये दिल भी अवारा था,

कहा आ गए हम इस समझदारी के दलदल में,

वो नादान बचपन भी कितना प्यारा था…

(527)

Share This Shayari With Your Friends