बेईमान है तू

बेईमान है तू

बेईमान है तू फरेबी है तू,
यहीं था जो आज चूर हो गया किसी भी काबिल नही है तू ,
तेरे ज़िक्र भी करूँ अब इस काबिल नही है तू,
अब मेरे किसी काम का नही है तू…………..

 

(1084)

Share This Shayari With Your Friends

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *