छुट ना जाए बिन तेरे

छुट ना जाए बिन तेरे

ज़िन्दगी अधूरी लगती है बिन तेरे,

कुछ कमी सी है रूह में बिन तेरे,

आ जाओ अब ज़िन्दगी में मेरे,

कहीं राहे छुट ना जाए बिन तेरे…

(397)

Share This Shayari With Your Friends