दर्द-भरी शायरी

फिर भी क्यूँ वो हुए ना हमारे

फिर भी क्यूँ वो हुए ना हमारे

जिनकी राहों में हमने बिछाए थे सितारे, उनसे कहते है हरपल आंसुओं के सहारे, हो गए है सारे शिकवे कितने किनारे, मगर फिर भी क्यूँ वो हुए ना हमारे...Read more
आँखों मे आँसुओं की लकीर बन गई

आँखों मे आँसुओं की लकीर बन गई

आँखों मे आँसुओं की लकीर बन गई, जैसी चाहिए थी वैसी तकदीर बन गई, हमने तो सिर्फ रेत में उँगलियाँ घुमाई थीं, गौर से देखा तो आप की तस्वीर बन…Read more
आपका साथ है बहुत जरुरी

आपका साथ है बहुत जरुरी

हसरतें रह जाएँगी आपकी भी अधूरी, ज़िन्दगी ना होगी आपके बिन पूरी अब तो, और सही जाए ना ये दूरी और, जीने के लिए आपका साथ है बहुत जरुरी...Read more
जिनके नसीब में हम नही

जिनके नसीब में हम नही

माना के नसीब में हमारे कोई सनम नहीं, फिर भी कोई शिकवा या कोई गम नही, तन्हा हैं फिर भी जिए जा रहे है, क्योकि बदनसीब तो वो है, जिनके…Read more
मेरी पलकों को भिगो दिया

मेरी पलकों को भिगो दिया

सुकून अपने दिल का मैंने खो दिया, खुद को तन्हाई के समन्दर में डुबो दिया, जो थी मेरे कभी मुस्कुराने की वजह, आज उसकी कमी ने मेरी पलकों को भिगो…Read more