भरोसा है मुझे तुम पर

भरोसा है मुझे तुम पर

मेरे दिल कि सरहद को पार न करना,

नाजुक है दिल मेरा वार न करना,

खुद से बढ़कर भरोसा है मुझे तुम पर,

इस भरोसे को तुम बेकार न करना…।

(228)

Share This Shayari With Your Friends