तुझे बेवफ़ा भी न कह सका

तुझे बेवफ़ा भी न कह सका

कितनी अजीब जुदाई थी,
की तुझे अलविदा भी न कह सका,

तेरी सादगी में इतना फरेब था,
की तुझे बेवफ़ा भी न कह सका…!!!

(326)

Share This Shayari With Your Friends