बहुत दर्द सह लिए मैंने

बहुत दर्द सह लिए मैंने

अब तो दामन-ए-दिल,

छोड़ दो बेकार उमीदों,

बहुत दर्द सह लिए मैंने,

बहुत दिन जी लिया मैंने…।

(964)

Share This Shayari With Your Friends