अपनी निगाहों से न देख खुदको

अपनी निगाहों से न देख खुदको

अपनी निगाहों से न देख खुदको,

हीरा भी तुझे पत्थर लगेगा,

सब कहते होंगे चाँद का टुकड़ा है तू,

मेरी नज़र से देख चाँद तेरा टुकड़ा लगेगा…!!!

(1829)

Share This Shayari With Your Friends