अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है

अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है

एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है,
इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है;

उससे मिलना तो तकदीर मे लिखा भी नही,
फिर हर मोड़ पे उसी का इंतज़ार क्यों है!

(1384)

Share This Shayari With Your Friends