एहसास हो सिर्फ तुम

एहसास हो सिर्फ तुम

अधूरी सी कहानी दिल की और पूरा प्यार तुम,

गीली पलकों की नमी और बेरहम याद तुम,

अनछुआ दिल का कोना और ,

रुह मे घुला एहसास हो सिर्फ तुम।

(452)

Share This Shayari With Your Friends