अब तो आ जाओ

अब तो आ जाओ

कर लिया मैनें अपनी गलती का एहसास अब तो आ जाओ
भीग गई अश्कों से मेरे दिल की किताब अब तो आ जाओ

शब को चांद और तारे मुझ को ताना देते हैं
कब तक कटेगी यूं ही तन्हा रात अब तो आ जाओ

कैसे मेरा कोइ भी पयाम उन तक पहुंचता नहीं
कर लो खुद ही मेरी बैचेनी का एहसास अब तो आ जाओ

तेरे इंतजार में पथरा गई मेरी आंखें
छूट जानेे को है अंतिम सांस अब तो आ जाओ

बाद मरने के मेरी रूह चैन कहां पायेगी
जनाजे को दो फूल चढ़ाने की है बात अब तो आ जाओ

(1576)

Share This Shayari With Your Friends