आंसू और दर्द

मोहोब्बत कितनी भी,

सच्ची कियो ना हो,

एक ना एक दिन आंसू और दर्द,

ज़रूर देती है…

(381)

Share This Shayari With Your Friends