आज अजनबी हूँ

आज अजनबी हूँ

आज अजनबी हूँ  शायद,

कल अपना लगूं,

रफ्ता-रफ्ता क्या पता,

तुमको भी अच्छा लागू…

(857)

Share This Shayari With Your Friends