Monthly Archives: March 2018

जुदाई माँग ली

जुदाई माँग ली

मुझसे नफरत की अजब राह निकाली उसने, हँसता बसता दिल कर दिया खाली उसने, मेरे घर की रिवायत से वोह खूब था वाकिफ, जुदाई माँग ली बन के सवाली उसने...।Read more
चुपचाप बिखर जाया करते हैं

चुपचाप बिखर जाया करते हैं

जो नजर से गुजर जाया करते हैं, वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं, कुछ लोग दर्द को जाहिर नहीं होने देते, बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं...।Read more
दर्द जब हमने उबारा लफ्जों पे

दर्द जब हमने उबारा लफ्जों पे

कागज़ पे हमने भी ज़िन्दगी लिख दी, अश्क से सींच कर उनकी खुशी लिख दी, दर्द जब हमने उबारा लफ्जों पे, लोगों ने कहा वाह क्या गजल लिख दी...।Read more
हर दर्द के निशान

हर दर्द के निशान

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम, हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम, अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला, ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे…Read more
तुम्हारे-ही-खयालो-में-खोए

तुम्हारे-ही-खयालो-में-खोए

जब खामोश आँखो से बात होती है, ऐसे ही मोहब्बत की शुरुवात होती है, तुम्हारे ही खयालो में खोए रहते है, पता नही कब दिन कब रात होती है...!!!Read more