Monthly Archives: November 2015

हमारी नजरों से शिकायत करते हैं

वो आँखों से यूँ शरारत करते हैं, अपनी अदा से भी कयामत करते हैं, निगाहें उनकी भी चेहरे से हटती नहीं, और वो हमारी नजरों से शिकायत करते हैं...!!! ~राजRead more

क्या ये मेरी भूल थी

हमारी दास्ताँ उसे कहाँ क़बूल थी, मेरी वफायें उसके लिए फ़िज़ूल थी, कोई आस नही लेकिन कोई इतना बता दो, मैने चाहा उसे क्या ये मेरी भूल थी...!!!Read more

शौक जीने का है

जिंदगी तुझसे हर कदम पर समझौता क्यों किया जाए, शौक जीने का है मगर इतना भी नहीं कि मर मर कर जिया जाए, जब जलेबी की तरह उलझ ही रही…Read more

हम चले जायेगे एक दिन

करोगे याद एक दिन दोस्ती के जमाने को, हम चले जायेगे एक दिन वापिस ना आने को, जिक्र जब छेड देगा कोई महफिल मे हमारा, चले जाओगे तन्हाई मे आँसु…Read more

नजर आओगे हम पुकारेंगे

आवारगी में हमने इसको भी हुनर जाना, इकरारे वफ़ा करना फिर उससे मुकर जाना, जब ख्वाब नहीं कोई क्या जिन्दगी का करना, हर सुबह को जी उठना हर रात को…Read more

हम हर बार टूट जाया करेंगे

तुम्हारी दुनिया से चले जाने के बाद, हम तुम्हे हर एक तारे में नज़र आया करेंगे, तुम हर पल कोई दुआ मांग लेना, और हम हर बार टूट जाया करेंगे...Read more

इस दिल में कभी ‪‎रात‬ नहीं होती

सिर्फ देख के किसी को ‪‎दिल‬ की बात नहीं होती, मुलाकात हो फिर भी कभी ‪‎बरसात‬ नहीं होती, जानते है तुम कभी हमारे ना हो पाओगे, फिर भी इस दिल…Read more
कोई दिल से याद करता है आपको

कोई दिल से याद करता है आपको

किसी के पैगाम को ज़रा प्यार से पढ़ा कीजिये, किसी की चाहत का एहसास कीया कीजिये, कोई दिल से याद करता है आपको, कम से कम हिचकियाँ तो लिया कीजिये...!!!Read more

ये जबाब उनका था

दिल की किताब में गुलाब उनका था, रात की नींद में ख्वाब उनका था, कितना प्यार करते हो जब हमने पूछा, मर जायंगे तुम्हारे बिना ये जबाब उनका था...!!!Read more

वो भला प्यार की कीमत क्या जाने

ये बेवफा वफा की कीमत क्या जाने, है बेवफा गम-ऐ मोहब्बत क्या जाने, जिन्हे मिलता है हर मोड पर नया हमसफर, वो भला प्यार की कीमत क्या जाने...!!!Read more

कौन समा सकता है मेरे दिल में

मेरी साँसों को भी आज टूट जाने दे ए-खुदा, मेरे ख्वाबों की तरह, उसके वादों की तरह, तेरे सिवा कौन समा सकता है मेरे दिल में, रुह तक गिरवी है…Read more
चराग-ऐ-इश्क जलने की रात आयी है

चराग-ऐ-इश्क जलने की रात आयी है

चराग-ऐ-इश्क जलने की रात आयी है, किसी को अपना बनाने की रात आयी है, फलक का चाँद भी शर्मा के मुँह छुपायेगा, नक़ाब रुख से उठाने की रात आयी है,…Read more

ये सांस भी अब आती जाती नही

तकलीफ इस दिल से जाती नही, जिंदगी भी अब मुस्कुराती नही, अंधेरों में डूबे हुए सुबह शाम, की रोशनी जगमगाती नही, हर लम्हा है जारी कोई कश्मकश किसी और की…Read more

ऐसी नींद सुला दे

कितना और दर्द देगी बस इतना बता दे, ऐसा कर मालिक अब मेरी हस्ती मिटा दे, यूँ घुट घुट के जीना मौत से बेहतर है, कभी न खुले आँखे तो…Read more