कोई कुछ न कहकर भी

कोई कुछ न कहकर भी

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है,

दिल न चाह कर भी, खामोश रह जाता है,

कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है,

कोई कुछ न कहकर भी, सब बोल जाता है…!

(266)

Share This Shayari With Your Friends